Followers

Thursday, May 16, 2013

परिवारों को बचाने का एक प्रयास ( चर्चा मंच- 1246 )

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
 
आधुनिकता का सबसे बड़ा नुक्सान रहा है परिवारों का लुप्त होना । सयुंक्त परिवार तो खत्म हुए ही अब तो लिव इन रिलेशन के चक्कर में एकल परिवारों पर भी लुप्त होने का खतरा मंडरा रहा है । इस लुप्त होते परिवारों को बचाने का एक प्रयास हो सकता है परिवार दिवस अगर इसे सिर्फ दिवस मनाने तक सीमित न रखा जाए । 
चलते हैं चर्चा की ओर 
पंजाबी लघुकथा
My Photo
My Photo
जाले
My Photo

 आज की चर्चा में बस इतना ही 
धन्यवाद 
दिलबाग 
आगे देखिए..."मयंक का कोना"
(1)

(2)
लहरें

प्रवीण पाण्डेय जी का नाम खुद अपने आप में परिचय है उनका --- और उसी तरह उनके ब्लॉग का नाम-* न दैन्यं न पलायनम* भी .... प्रस्तुत है उनकी एक रचना...
मेरे मन की

(3)
क्यों पंछी हुआ उदास...!!! पलायन का दर्द ?..

क्यों पंछी हुआ उदास ,अपना नीड़ छोड़ कर ,
जिसे  संजोया था ,तिनका -तिनका जोड़ कर।... 

(4)
....सुबह नहीं होती
लिख रहे हैं रोज़ ही लेकिन ताज़ा ग़ज़ल नहीं होती 
बेखुदी में है कमी या फिर पूरी बहर नहीं होती ...
My Photo
वन्दना

21 comments:

  1. भाई दिलबाग विर्क जी आपने आज परिवार दिवस पर चर्चा की सुन्दर प्रस्तुति दी है...!
    परिवारों को बचाने का एक प्रयास ( चर्चा मंच- 1246 ) यह सन्देश देता है कि हमें एकजुट होकर परिवारों को बचाने का प्रयास करना चाहिए।
    आभार के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. चलते चलते : आदरणीय शास्त्री जी "परिवार दिवस" की खूब बधाई ! वैसे "ख़ास" परिवार पर कुछ लिखूंगा आपकी तवज्जो की दरकार रहेगी ...

      Delete
    2. http://whoistarun.blogspot.in/2013/05/blog-post_16.html
      परिवार दिवस और परिवार वाद

      Tavajjo Chahunga ... Jay Hind !

      Delete
  2. बहुत बढ़िया लिनक्स चुन लाये हैं .......आभार

    ReplyDelete
  3. अच्छी लिंक्स से सजा आज का चर्चा मंच |"परिवार बचाओ प्यार बढाओ "
    सादर
    आशा

    ReplyDelete
  4. आदरणीय दिलबाग जी बहुत ही सुन्दर लिंक्स सजाए हैं आपने आज की चर्चा में! इस चर्चा में मेरी रचना को स्थान प्रदान करने के लिए आपका आभार!

    ReplyDelete
  5. चर्चाओं की श्रंखला में एक और नायब मोती एक खूबसूरत चर्चा साथ में उल्लूक का आभार !

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर सूत्र, आज तो मेरे लिये डबल सेन्चुरी जैसी उपलब्धि हो गयी।

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन सार्थक लिंकों से सुसज्जित चर्चा,आभार.

    ReplyDelete
  8. सुंदर चर्चा बेहतरीन सार्थक लिंकों से सुसज्जित........

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्दर चर्चा... मेरी रचना को स्थान प्रदान करने के लिए आपका आभार!

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर लिनक्स से सजी चर्चा हेतु हार्दिक बधाई अब जाती हूँ पढने ..........

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर कसी हुई लाजवाब चर्चा आदरणीय हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  12. सुन्दर लिंकों से सजी सुन्दर चर्चा !!

    ReplyDelete
  13. bahut acchi charcha ...thanks nd aabhar ......

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया चर्चा दिलबाग sir ,हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  15. आदरणीय दिलबाग जी एवं समस्त चर्चामंच परिवार , सविनय अभिवादन व आभार !

    तोता तो तोता भया , कहे रटी रटाय ।
    हरी मिर्च रिश्वत की ख़ुशी ख़ुशी खा जाय ॥

    प्रणाम !

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्‍च्‍छे लिंक्‍स सजाए हैं आपने...मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  17. सार्थक संयोजनों के लिये वधाई !

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"राम तुम बन जाओगे" (चर्चा अंक-2821)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...