साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Tuesday, September 12, 2017

गली गली गाओ नहीं, दिल का दर्द हुजूर :चर्चामंच 2725


144 दोहे 

रविकर 
गली गली गाओ नहीं, दिल का दर्द हुजूर | 
घर घर मरहम तो नहीं, मिलता नमक जरूर ||  
भुगतान हो गया तो निकल कर चले गए
नारे लगाने वाले अधिकतर चले गए

माँ बाप को निकाल के घरखेत बेच कर
बेटे हिसाब कर के बराबर चले गए... 
Digamber Naswa 

किताबों की दुनिया - 142 

नीरज गोस्वामी 

हम अभिशाप थे या वरदान रहे 

अनुपमा पाठक 
--

हम और तुम 

वर्षों से भटक रहे थे हम तुम 
ज़िंदगी की इन अंधी गलियों में 
कुछ खोया हुआ ढूँढने को... 
Sudhinama पर sadhana vaid  



9 comments:

  1. सार्थक चर्चा।
    सुप्रभात,
    आभार रविकर जी।

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात रविकर भाई
    आभार...
    सादर

    ReplyDelete
  3. सुन्दर चर्चा ... कुछ नए सूत्र ..
    आभार मेरी गजल को जगह देने के लिए ...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति राविकर जी।

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. पठनीय सूत्रों की जानकारी देती सार्थक चर्चा..मुझे भी इसमें शामिल करने के लिए आभार !

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर सार्थक सूत्रों का संकलन ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार रविकर जी !

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति रविकर जी। आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...