चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, June 27, 2017

"कोविन्द है...गोविन्द नहीं" (चर्चा अंक-2650)

मित्रों!
मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--
--
--
--

ईद मुबारक 

! कौशल ! पर Shalini Kaushik 
--
--
--

संदेश 

"आज के बच्चों के लिये" 

चाँद पे जाना मंगल पे जाना 
दुनिया बचाना बच्चो 
मगर भूल ना जाना... 
कविता मंच पर kuldeep thakur 
--
--

वही घर है, वही माँ हैं, वही बाबूजी 

लोहे के घर में पापा बेटे को सुला रहे हैं 
कंधे पर हिल रहे हैं, हिला रहे हैं 
बेटा ले रहा है मजा खुली आंखों से! 
पापा सोच रहे हैं सो चुका है... 
बेचैन आत्मा पर देवेन्द्र पाण्डेय 
--

अच्छी नींद का कारोबार 

कौन कितना दौलतमंद है, ताकतमंद है, 
इसे जानने के लिए 
उसकी नींद पर गौर करें... 
कल्पतरु पर Vivek 
--

जनाज़े पर किसी के जाके मुस्काया नहीं करते 

ज़रर हर मर्तबा वालों को बतलाया नहीं करते 
फ़लक़ छू लें भले ही ताड़ पर छाया नहीं करते... 
चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 
--

हेमलासत्ता 

(भाग-2) 

नाई की बात सुनकर खेतासर के लोग बोले- हेमला से हम हार गए, वह तो एक के बाद एक को मारे जा रहा है, बड़े गांव में भी हम लोगों को चैन से नहीं रहने दे रहा है। हम कुछ नहीं कर सकते। अब तो बड़े शहर जाकर वहाँ से मियां मौलवी को लाना होगा। सुना है वहां एक खलीफा जी बड़े सिद्धहस्त हैं, उनके आगे हाथ जोड़कर जो बेऔलाद औरतें भेंट चढ़ाती हैं उन्हें वह गंडे-ताबीज देते हैं, जिससे उनकी गोद भर जाती हैं। जिन्न, डाकिनी और देव सब उनसे डरते हैं, भूत, मसान, खबीस सभी उनसे कांपा करते हैं। उनके पास जाकर खेतासर के लोगों ने नगद भेंट निकालकर हाल सुनाया तो वे बोले- “मैं आप लोगों से पहले भेंट हरगिज नहीं लूँगा, पहले चलकर वहाँ उस भूत को दफन करके आऊँगा, उसके बाद ही भेंट स्वीकार करूँंगा।“  यह सुनकर सभी खुश होकर बोले- जैसी आपकी मर्जी, अब हमारी यही अर्जी है कि आप हमारे साथ चलें। विनती कर वे लोग उसे गांव लाये और उसकी खूब खातिरदारी की, जिसे देख खुश होकर खलीफा बोला- ’सुनो सब, सत्ता से डरने की कोई बात नहीं अब समझो वह भसम हो कर रहेगा.... 
--

योगा के योगी 

सुबह उठते ही नाक लंबी लंबी साँसे लेने को व्याकुल हो उठती है ,जीभ फडफडाकर सिंहासन करने को उग्र हो जाती है, गला दहाड़ कर शेर से टक्कर को उद्दत होने लगता है , बाकी शरीर मरता क्या न करता वाली हालत में शवासन से जाग्रत होने पर मजबूर हो जाता है बेचारा, योग की आदत के चलते ... योग का मतलब प्राणायाम युक्त शारीरिक व्यायाम ज्यादा अच्छा है समझने को , अब समझें प्राणों का आयाम ...  
अर्चना चावजी Archana Chaoji  
--
--

विश्व योग दिवस के मुकाबले 

विश्व अखाड़ा व जिम दिवस 

देश गढ्ढे में था और उसी गढ्ढे के भीतर गुलाटी मार मार कर योगा किया करता था. सन २०१४ में एक फकीर अवतरित हुआ जिसकी वजह से देश गढ्ढे से आजाद हुआ और निकल कर विकास के राज मार्ग पर आ गया. जब देश राज मार्ग पर आ गया तो गुलाटीबाज योगा को भी राज गद्दी मिल गई. सारी दुनिया ने इसे एकाएक पहचान लिया और यू एन ओ ने विश्व योगा दिवस की घोषणा करके भारत को विश्व गुरु घोषित कर दिया... 
--
--
--
--
दलितों को जिंदगी जीना है मजबूरी, 
समाज उनके लिए क्या कर रही 
यह बात पता नहीं किसी को पूरी ... 
--
--

किताबों की दुनिया -131 

नीरज पर नीरज गोस्वामी 
--

वफ़ा के सताए... 

ईद में मुंह छुपाए फिरते हैं 
ग़म गले से लगाए फिरते हैं 
दुश्मनों के हिजाब के सदक़े 
रोज़ नज़रें चुराए फिरते हैं... 
साझा आसमान पर Suresh Swapnil 
--

किस्मत की धनी 

vandana gupta 
--

ज़रा सी शायरी कर ले !! 

नए किरदार गढ़ने के नशे में 
मैं बेकिरदार होकर रह गया हूँ... 
तिश्नगी पर आशीष नैथाऩी 

Sunday, June 25, 2017

"हिन्दी के ठेकेदारों की हिन्दी" (चर्चा अंक-2649)

मित्रों!
रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--

देनेवाला श्री भगवान! 

अर्चना चावजी Archana Chaoji 
--

कविता  

"चौमासा बारिश से होता"  

सावन सूखा बीत न जाये।
नभ की गागर रीत न जाये।।

कृषक-श्रमिक भी थे चिन्ताकुल।
धान बिना बारिश थे व्याकुल।। 

रूठ न जाये कहीं विधाता।
डर था सबको यही सताता।।
--
--

खुशियों का गाँव 

(बाल नाटक) 

Fulbagiya पर डा0 हेमंत कुमार 
--
--

यादें हरसिंगार हों 

...यादें हरसिंगार हों, वादे गेंदा फूल 
आस बने सूरजमुखी, कहाँ टिके फिर शूल...
मधुर गुंजन पर ऋता शेखर 'मधु' 
--

सूर्यास्त:  

दुष्यंत कुमार 

सूरज जब किरणों के बीज-रत्न 
धरती के प्रांगण में बोकर 
हारा-थका स्वेद-युक्त रक्त-वदन 
सिन्धु के किनारे निज थकन मिटाने को
 नए गीत पाने को आया... 
कविता मंच पर kuldeep thakur 
--
--

एक दिन मुक़र्रर हो... 

शौक़ तो उन्हें भी है पास में बिठाने का 
जो हुनर नहीं रखते दूरियां मिटाने का... 
Suresh Swapnil 
--

दीवार नही उठानी है 

डॉ. अपर्णा त्रिपाठी 
--

जीवन की जंग 

जीतनी तो थी जीवन की जंग 
तैयारियाँ भी बहुत की थीं इसके लिए 
कितनी तलवारें भांजीं 
कितने हथियारों पर सान चढ़ाई 
कितने तीर पैने किये 
कितने चाकुओं पर धार लगाई 
लेकिन एक दिन सब निष्फल हो गया... 
Sudhinama पर sadhana vaid 
--
--
--
चेम्पियन्स ट्राफी के फायनल में भारत की हार के बाद, पाकिस्तान की जीत की खुशी में पटाखे छोड़ने और पाकिस्तान जिन्दाबाद के नारे लगा कर, जश्न मना कर, ‘राष्ट्र की गरिमा के विपरीत कृत्य’ के आरोप में बुरहानपुर पुलिस ने 15 लोगों को गिरफ्तार किया। अपने प्रदेश की पुलिस पर गर्व हो आया। वर्ना कहीं हमारी पुलिस भी जम्मू-कश्मीर पुलिस की तरह ‘बन्‍दनयन’ होती तो ये देशद्रोही बच निकलते... 

एकोऽहम् पर विष्णु बैरागी  
--
--

चन्द माहिया : क़िस्त 42 

:1:
दो चार क़दम चल कर
छोड़ तो ना दोगे ?
सपना बन कर ,छल कर
:2:
जब तुम ही नहीं हमदम
सांसे  भी कब तक
अब देगी साथ ,सनम !
:3:.. 
आपका ब्लॉगपरआनन्द पाठक 
--

मैं..... 

जब मैं , मैं नहीं होता हूँ ।
तो फिर क्या ?
तो क्या मेरे अस्तित्व का विस्तृत आकाश
अनंत तक अंतहीन होता है ?
या अनंत में विलीन होता है ?
या मेरे वजूद के संगीत की सप्तक
किसी के कानों में मूर्त एकाकार होता है... 
--

पर खुद भूखे मर रहे हैं। 

किसान आज से नहीं,
सदियों से आत्महत्या कर रहे हैं,
उगाते तो हम  अनाज हैं,
पर खुद भूखे मर रहे हैं।
मैंने एक और किसान कि
 आत्महत्या के बाद
आंदोलन कर रही भीड़... 
kuldeep thakur  
--

हे ईश्वर ! 

24 जून 2013 अस्पताल में 
अपनी दैनिक पूजा करते हुए माँ 
(मेरे लिए प्रार्थना भी) ... 
सु-मन (Suman Kapoor) 
--

वाकिफ़ 

दुनिया कहती है तू निराकार हैं
पर मैं कहता हूँ मेरा हृदय ही तेरा आकार हैं
अहंकार नहीं यह जज्बात हैं
क्योंकि इसकी धड़कनों में 
तेरी ही रूह का बास हैं... 

RAAGDEVRAN पर 
MANOJ KAYAL 
--

मध्यान्ह का सूर्य 

एक दिन दोपहर मिली बड़ी बुझी -बुझी 
अपने ही कन्धों पर झुकी -झुकी ... 
Mera avyakta पर  
राम किशोर उपाध्याय 
--
--
--

यूँ ही इक पल की कहानी... 

उस दिन जब मैं तुमसे नाराज हो रही थी की तुमको इतने काल की तो जवाब क्यों नही दिया,कितनी इमरजेंसी थी पता है तुमको....और तुमने बहुत बेबाकी से मुझसे कहाँ पचास बार फोन करोगी,तो इमरजेंसी में भी नही उठेगा... 
'आहुति' पर Sushma Verma 
--

जनकवि का शताब्दी वर्ष 

और मेरे मोहल्ले का चौकीदार 

मुक्तिबोध हुए हैं हिंदी के बड़े कवि उनकी शताब्दी वर्ष मनाई जा रही है स्कूलों में , कालेजों में , विश्वविद्यालयों में संस्थानों में कुछ लोग कहते हैं कि उनसे भी बड़े कवि थे त्रिलोचन , नागार्जुन और कई अन्य नाम लेते हैं वे इनकी कविताओं से सरकारें हिल जाया करती थी... 
सरोकार पर Arun Roy 
--
--

मगर उल्फ़त के अफ़साने रहेंगे 


चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 
--
--

आमदनी और सफाई ; 

एक समाजशास्त्रीय अध्ययन 

मेरी ज़िंदगी में ऐसे कई लोग आए, जिनके व्यवहार के आधार पर मैंने कुछ सूत्रों और कहावतों का निर्माण किया है | इन सूत्रों में से एक सूत्र यह रहा - ''ज्यों - ज्यों इंसान की आमदनी बढ़ती जाती है त्यों - त्यों उसके घर में होने वाली सफाई का ग्राफ भी बढ़ता जाता है''| इस सूत्र को मैं एक उदाहरण के द्वारा स्पष्ट करूंगी.... 

कुमाउँनी चेली पर शेफाली पाण्डे 

--
--

पारिवारिक कलह:: 

एक लघु दृष्टि 

इस बदलते समय और समाज में परिवारिक कलह जैसे बहुत ही सामान्य सी घटना हो गई है। आये दिन इसके विकृत रूप का परिणाम कई शीर्षकों में अखबारों के किसी पन्ने में दर्ज होता रहता है। महानगरीय जीवनशैली में जैसे इस प्रवृत्ति को और बढ़ावा ही दे रहा है। जहाँ एक दूसरे की दिल की बात को सुनने और समझने के लिए किसी के भी पास वक्त नहीं है। एक ऐसे सुख की तलाश में सभी बेतहासा भाग रहे है जहाँ शुष्क और रेतीले सा अंत तक यह छोड़ फैला हुआ है। किसी परिवार में सामान्यतः एक कसक और द्वन्द किसी भी बात को लेकर शुरू हो जाता है और... 
--
--
--
--

यही तो है ज़िन्दगी 

ज़िन्दगी 
यही तो है ज़िन्दगी 
कहीं धूप,छांव 
है कहीं बहती धारा... 
Ocean of Bliss पर Rekha Joshi 
--

खूबसूरत 


Rishabh Shukla  
--
--

’जहां मैं हूं—  

वहां विरोधाभास है—  

मैं ही तो---  

विरोधाभास हूं—’ 

--

ज़रूरी 

इश्क में थोड़ा झुकना भी ज़रूरी है, 
लम्बा चलना है, तो रुकना भी ज़रूरी है... 
कविताएँ पर Onkar 
--

योगा में गुण बहुत हैं करते रहिए रोज.... 

गंगू तेली छाँडिकर बनोगे राजा भोज 
अब आप कहेंगे कि ये कहां से चंडूखाने की गप्प के गले में रस्सी डालकर उठा लाये हैं? पर यकीन मानिए हम सही कह रहे हैं कोई इसरो का सेटेलाइट हवा में नही छोड़ रहे हैं। हम बात योग की नही कर रहे बल्कि योगा की कर रहे हैं... 
ताऊ डाट इन पर ताऊ रामपुरिया 
--
--
--

LinkWithin