Followers

Thursday, December 31, 2015

अलविदा - 2015 { चर्चा - 2207 }

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
वर्ष 2015 की यह अंतिम चर्चा है | इस वर्ष की पहली चर्चा लगाने का सौभाग्य भी मुझे मिला था और अंतिम भी | वर्ष 2016 आपको वो सब खुशियाँ दे, जिससे आप 2015 में किन्हीं कारण वंचित रहे हों, यही चर्चा मंच परिवार की कामना है 
चलते हैं चर्चा की ओर

नये वर्ष का अभिनन्दन
My Photo
प्रोफ़ाइल फ़ोटो
My Photo
मेरा फोटो
My Photo
धन्यवाद 

Wednesday, December 30, 2015

भारत में मुसलमान होने का दर्द; चर्चा मंच 2206

अनुपमा पाठक 
 अनुशील 

Tuesday, December 29, 2015

सुखी रहे बिटिया सदा, पाये प्रेम अथाह ; चर्चा मंच 2205



रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 


छिपा क्षितिज में सूरज राजा,
ओढ़ कुहासे की चादर।
सरदी से जग ठिठुर रहा है,
बदन काँपता थर-थर-थर।।
ज्योति-कलश 
Dr (Miss) Sharad Singh 
अनुपमा पाठक 
Naveen Mani Tripathi 


Priti Surana 




Neeraj Kumar Neer 




Krishna Kumar Yadav a




anjana dayal 




haresh Kumar 



प्रवीण पाण्डेय 

"कुछ कहना है"
खाता-पीता घर मिले, यही बाप की चाह |
सुखी रहे बिटिया सदा, पाये प्रेम अथाह |
पाये प्रेम अथाह, हमेशा होय बरक्कत |
करवा देते व्याह, किन्तु दूल्हे की आदत |
रविकर ले सिर पीट, नहीं कोई दिन रीता |
मुर्गा मछली मीट, और वह खाता-पीता ||

Monday, December 28, 2015

अगर न होती बेटियाँ, थम जाता संसार--चर्चा अंक 2204

जय मां हाटेश्वरी... 
--
छोटे से गाँव में एक माँ - बाप और एक लड़की का गरीब परिवार रहता था . 
वह बड़ी मुश्किल से एक समय के खाने का गुज़ारा कर पातेथे .सुबह के खाने के 
लिए शामको सोचना पड़ता था और शाम का खाना सुबह के लिए . 
एक दिन की बात है , 
लड़की की माँ खूब परेशान होकर अपने पति को बोली की एक तो हमारा एक 
समय का खाना पूरा नहीं होता औ बेटी साँपकी तरह बड़ी होती जा रही है. 
गरीबी की हालत में इसकी शादी केसे करेंगे ? 
बाप भी विचार में पड़ गया.दोनों ने दिल पर पत्थर रख कर एक 
फेसला किया की कल बेटी को मार कर गाड़ देंगे . 
दुसरे दिन का सूरज निकला , माँ ने लड़की को खूब लाड प्यार किया , अच्छे से 
नहलाया , बार - बार उसका सर चूमने लगी .यह सब देख कर लड़की बोली : 
माँ मुझे कही दूर भेज रहे हो क्या ? वर्ना आज तक आपने मुझे ऐसे कभी प्यार 
नहीं किया ,माँ केवल चुप रही और रोने लगी , 
तभी उसका बाप हाथ में फावड़ा और चाकू लेकर आया,माँ ने लड़की को सीने से 
लगाकर बाप के साथ रवाना कर दिया . 
रस्ते में चलते - चलते बाप के पैर में कांटा चुभ गया,बाप एक दम से निचे बैठ 
गया,बेटी से देखा नहीं गया उसनेतुरंत कांटा निकालकर फटी चुनरी का एक 
हिस्सा पैर पर बांध दिया . 
बाप बेटी दोनों एक जंगल मेंपहुचे बाप ने फावड़ा लेकर एक गढ़ा खोदने 
लगा बेटी सामने बेठे - बेठे देख रही थी ,थोड़ी देर बाद गर्मी के कारण बाप 
को पसीना आने लगा.बेटी बाप के पास गयी और पसीना पोछने के लिए 
अपनी चुनरी दी . 
बाप ने धक्का देकर बोला तू दूर जाकर बेठ। थोड़ी देर बाद जब बाप गडा खोदते - 
खोदते थक गया , बेटी दूर से बैठे -बैठे देख रही थी, 
जब उसको लगा की पिताजी शा थक गये तो पास आकर बोली पिताजी आप थक 
गये है .लओ फावड़ा में खोद देती हु आप थोडा आराम कर लो .मुझसे आप 
की तकलीफ नहीं देखि जाती .यहसुनकर बाप ने अपनी बेटी को गले 
लगा लिया,उसकी आँखों में आंसू की नदिया बहने लगी , 
उसका दिल पसीज गया ,बाप बोला : बेटा मुझे माफ़ कर दे, यह गढ़ा में तेरे लिए 
ही खोद रहा था .और तू मेरी चिंता करती है , अब जो होगा सो होगा तू 
हमेशा मेरे कलेजा का टुकड़ाबन कर रहेगी में खूब मेहनत करूँगा और तेरी शादी धूम 
धाम से करूँगा - 
सारांश : बेटी तो भगवान की अनमोल भेंट है ,बेटा - बेटी दोनों समान है , 
उनका एक समान पालन करना हमारा फ़र्ज़ है 
1

है ,इसलिए कहते हे बेटा भाग्य से मिलता हे और बेटी सौभाग्य से।। 

अब देखिये मेरी पसंद के कुछ चुने हुए लिंक... 
--  
कृष्णपक्ष की अष्टमी, और कार्तिक मास। 
जिसमें पुत्रों के लिए, होते हैं उपवास।। 
ऐसे रीति-रिवाज को, बार-बार धिक्कार। 
अगर न होती बेटियाँ, थम जाता संसार।। 
उच्चारण पर रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
-- 
‘रंजकेन पश्च्यमानात‘ किसी रंग देने वाली प्रक्रिया से यह पचता है-यानी फोटो सिंथेसिस। यह बड़ा महत्वपूर्ण है।
इसके पश्चात्‌ वह कहते हैं कि ‘उत्पादं- विसर्जयन्ति‘ हम सब आज जानते हैं कि पत्तियां फोटो सिंथेसिस से दिन में आक्सीजन निकालती हैं और रात में कार्बन डाय अक्साइड।
दिन में कार्बन डाय आक्साइड लेकर भोजन बनाती हैं।
Samaadhan पर Vivek Surange 
--  
 निर्भया उर्फ ज्योति सिंह के माता-पिता को पत्र
इन सब मुश्किलों के बावज़ूद, समाज के व्यंगबाण सहने के बावज़ूद, अपनी बलात्कार पीड़ित बेटी का नाम उजागर करना, सच में अपने-आप में एक बहुत ही हिम्मत का काम है।
क़ानूनन चाहे एक आरोपी, कम उम्र के कारण जेल से बाहर आ गया हो, लेकिन अपनी बेटी का नाम उजागर कर-कर, मुझे लगता है कि आपने अपनी बेटी को, कम से कम अपनी तरफ से
न्याय दे दिया! क्योंकि आज भी हमारे समाज में ऐसे बहुत से माता-पिता है जो बेटी का दोष नहीं है, यह जानते हुए भी उसका नाम उजागर करना तो दूर की बात है, ऑनर
आपकी सहेली पर Jyoti Dehliwal 
--  
!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!! 
क्षितिज में है शून्यता, छाया अँधेरा 
जम चुका है तारिकाओं का बसेरा  
कितने निर्मम तुम भी लेकिन चान मेरे 
चान मेरे तुम कहाँ हो 
बातें अपने दिल की पर निहार रंजन
-- 
विकल अन्तरमन उलसना चाहता है,
हर्ष का जीवन बिताना चाहता ।
व्यर्थ का दुख पा बहुत यह रो चुका है,
प्रेम का अभिराम पाना चाहता
परप्रवीण पाण्डेय




s200/IMG_3079

s320/The_Dead_Bird_by_joeyv7%255B1%255D


संदर्भ Faith : A Necessary Wi-Fi ही पढ़ा है प्रभावित करता है। पहले अध्‍याय ने ही कह दिया पुस्‍तक सग्रहणीय है। बाली जी को बधाई । ये मेरा विश्‍वास है किपुस्‍तक लम्‍बा सफर तय करेगी । लेखन में निरन्‍तरता बनायें रखें । पुन: बधाई और शुभकामनायें

-- 
निर्भया .....!
हम आज तुम्हें भुलाते हैं
क्यों की तुम्हें इंसाफ दिलाने में हमें
अपनी ही सुध नहीं रही
हम अपने को ही भूल गए
वो मसाल जो हमने जलायी थी
आज ...... 
बुझा देंगे 
पर महेश कुशवंश 
--  
फिर रुका कुछ देर इरावती के किनारे 
गले मिला बिछड़े हुए भाई से, माँ के पैर छू लिए 
माँ, भाई और सभी बन्धु हो लिए गद-गद 
इतना समय बहुत था, लोहे वाला अपना सौदा पटा ले 
लगता है न देखो सपने सा!
तुम तो सपने में भी नहीं सोच सकते थे।
पर दिनेशराय द्विवेदी 
-- 
पंकज जी किम्वदंती पुरुष बनकर अमर रहेंगे. हमें याद दिलाते हुए कि अशुद्ध भाषा लिखने से बड़ा अपराध नहीं होता. ऐसे समय में जब भाषा को रोज-रोज भ्रष्ट किया जा
रहा हो भाषा की शुद्धता सबसे बड़ा प्रतिरोध है. 
परPrabhat Ranjan 
-- 
रंगीनियत का दावा
बहारों में लिखा देखा
खूबसूरती का दावा
नज़ारों में लिखा देखा
गर्मजोशी का दावा
अंगारों में लिखा देखा 
पर Vikram Pratap Singh Sachan 
-- 
परsanjiv verma salil sanjiv verma salil
-- 

'मिर्ज़ा ग़ालिब' के २१८वें जन्मदिवस पर 

तिश्नगी पर आशीष नैथाऩी  
-- 

"विलोम शब्द" 

मीमांषा-  पर rashmi savita 
-- 

चुहुल - ७६

जालेपरnoreply@blogger.com (पुरुषोत्तम पाण्डेय 


10 टिप्स कंप्यूटर स्क्रीन से ऑखों की सुरक्षा के लिये - 10 Tips For Computer Eye Strain Relief in Hindi
MyBigGuide - माय बिग गाइड
परAbhimanyu Bhardwaj

पत्थर बन गया है इंसान।
KMSRAJ51-Always Positive Thinker
परKmsraj51


चिणौ
ज्ञान दर्पण
परRatan singh shekhawat

पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता पंकज सिंह
हिन्दीकुंज,Hindi Website/Literary Web Patrika
परAshutosh Dubey

आज की चर्चा तो पूरी हुई...
इस वर्ष की मेरी ये  अंतिम प्रस्तुति है...
आप को मेरी ओर से नव वर्ष की अग्रिम शुभकामनाएं...
मिलते हैं नव वर्ष में...
धन्यवाद।

Sunday, December 27, 2015

"पल में तोला पल में माशा" (चर्चा अंक-2203)

मित्रों!
रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
पड़ने वाले नये साल के हैं कदम!
स्वागतम्! स्वागतम्!! स्वागतम्!!!

कोई खुशहाल है. कोई बेहाल है,

अब तो मेहमान कुछ दिन का ये साल है,
ले के आयेगा नव-वर्ष चैनो-अमन!
स्वागतम्! स्वागतम्!! स्वागतम्!
--

लम्बी सड़क सा जीवन 

प्रातः काल सुनहरी धुप 
लम्बी सड़क दूर तक दे रही कुछ सीख 
तनिक सोच कर देखो | 
आच्छादित वह दीखती 
हरेभरे कतारबद्ध वृक्षों से 
बनती मिटती छायाओं से 
उनके अद्भुद आकारों से... 
Akanksha पर Asha Saxena 
--

सितारे रात तन्हाई तुम्हीं को गुनगुनाते हैं 

सितारे  रात   तन्हाई    तुम्हीं  को   गुनगुनाते  हैं 
अभी तक याद के जुगनू ज़हन में झिलमिलाते हैं 

नज़र के  सामने गुज़रा  हुआ जब  दौर आता   है 
कई  झरने  निग़ाहों   में   हमारे   फूट   जाते    हैं ... 
Lekhika 'Pari M Shlok' 
--
--
--
--

तूफ़ाँ से भी डरना क्या आएँगे व जाएँगे 

ग़म थोड़े बहुत यूँ तो तुमको भी सताएँगे 
पर हुस्न का जल्वा है सब हार के जाएँगे 
कोई भी नहीं अपना पर फ़िक़्र नहीं कुछ भी 
करना है जो हमको वह हम करके दिखाएँगे... 
चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 
--

क़ानून 

मैं नहीं मानता कि क़ानून अँधा होता है. 
क़ानून बनानेवाले जानते हैं कि 
किसके लिए कैसा क़ानून बनाना है, 
लागू करनेवाले जानते हैं कि 
किसके मामले में कैसे लागू करना है, 
व्याख्या करनेवाले जानते हैं कि 
किस व्यक्ति के लिए 
क़ानून का क्या अर्थ होता है... 
कविताएँ पर Onkar 
--

ताज बनते हैं, बनाए नहीं जाते... 

हर राज सब को बताए नहीं जाते, 
हर जख्म भी दिखाए नहीं जाते, 
यकीं करो या न करो, 
ताज बनते हैं, बनाए नहीं जाते...  
मन का मंथन  पर kuldeep thakur 
--

"करणी का फल " 

... अरे! आप बैठी -बैठी क्या सोच रही है मुझे महिला 
एवं बाल कल्याण दफ्तर में मीटिंग के लिए जाना है,,  
जल्दी से किचन में आईये और काम में हाथ बटाईए , 
बहू की रौबदार आवाज से नैना देवी की तन्द्रा भंग हुई। 
Shanti Purohit  
--

सांता क्लॉस नहीं पहुंचे 

सांता क्लॉस नहीं पहुंचे 
आसमान के नीचे रह रहे 
ठिठुरते बच्चो के बीच 
जिन्हे मालूम नहीं क्या होते हैं सपने 
क्या माँगना होता है सपने में... 
सरोकार पर Arun Roy 
--

नए साल की भोर 

गज़ल संध्या पर कल्पना रामानी 
--

तुम्हारे ख़त 

क्या-क्या न बयां कर जाते हैं तुम्हारे ख़त  
कभी हँसा कभी रुला जाते हैं तुम्हारे ख़त... 
यूं ही कभी पर राजीव कुमार झा 
--
--
--

नरेंद्र दामोदर मोदी एक गत्यात्मक (Dynamic ) प्रधानमंत्री हैं जो नवाज़ शरीफ की सहृदयता को भांप गए और उनके घर पहुँच गए उन्हें मुबारक बाद देने-बस शरीफ साहब ने इतना ही कहा था आप फोन पर क्यों पाकिस्तान आकर बधाई दीजिये हम आपका स्वागत करेंगे। आप अफगानिस्तान में हैं हमारे घर से ही तो गुज़रेंगे।बिना मिले चले जाएंगे। और राजनय एक पारिवारिक चेहरा बनके मुखर होने लगा

Virendra Kumar Sharma 
--
(बाईसवीं कड़ी)                                     ग्यारहवां  अध्याय (११.१-११.४)                                            (with English connotation)अष्टावक्र कहते हैं :Ashtavakra says :
भाव और अभाव विकार हैं, ये सब हैं स्वाभाविक होते|निर्विकार आत्म जो जाने, वे सुख, शांति प्राप्त हैं होते||
--

उर्दू शायरी में माहिया निगारी 

प्रिय मित्रो ! पिछले कुछ दिनों से इसी मंच पर क़िस्तवार :"माहिया" लगा रहा था जिसे पाठकों ने काफ़ी पसन्द किया और सराहा भी। कुछ पाठको ने "माहिया" विधा के बारे में जानना चाहा कि माहिया क्या है ,इसके विधान /अरूज़ी निज़ाम क्या है ? अत: इसी को ध्यान में रखते हुए यह आलेख : "उर्दू शायरी में माहिया निगारी" लगा रहा हूँ -.... 
आपका ब्लॉग पर आनन्द पाठक 
--
--
--
--
--

शीर्षकहीन 

daideeptya पर Anil kumar Singh 
--

हर दफ़ा 

हर दफ़ा भूल जाते हो तुम अपनी कही हर बात 
मैं सोच कर इसे पहली दफ़ा हर बार भूल जाती हूँ !!
सु-मन (Suman Kapoor)  
--

दिसम्बर, स्टॉकहोम 

और खिड़की से झांकता मन... !! 

इस शहर में ठहरा हुआ दिसम्बर है...  
उजाले नदारद हैं इन दिनों...  
धूप का चेहरा कई दिनों से 
नहीं देखा है उदास तरुवरों ने...  
और न ही बर्फ़ की उजली बारिश है इस बार 
कि ढँक ले अँधेरे को...  
अनुशील पर अनुपमा पाठक 
--

"लाचार हुआ सारा समाज" (चर्चा अंक-2820)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...