Followers

Wednesday, April 30, 2014

"सत्ता की बागडोर भी तो उस्तरा ही है " (चर्चा मंच-1598)

 मित्रों!
आदरणीय रविकर जी अवकाश पर हैं।
इसलिए उन्हीं के स्टाइल पर
बुधवार की चर्चा प्रस्तुत कर रहा हूँ।
देखिए मेरी पसंद के किुछ लिंक।

 रविकर हैं अवकाश पर, कोई नहीं प्रपंच।
सूना-सूना सा लगे, हमको चर्चा मंच।
हमको चर्चा मंच, बहुत ही पड़ता भारी।
मुर्झायी सी लगती, कानन की फुलवारी।
कह मयंक कविराय, बात को अपनी खुलकर।
इतने मत अवकाश करो, हे प्यारे रविकर।।
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 
--
मधु सिंह : महफूज़ चिंगारी रहे
ता- कयामत  हुश्न  की महफ़ूज़  चिंगारी रहे
दिल पे काबिज आपके हुश्न की मुख्तारी रहे

कल ही तो मैंने तुमको आँखों से छू के  देखा
लबों  पे मुस्कुराहट का सिलसिला जारी रहे..
चित्र प्रदर्शित नहीं किया गया
बेनकाब

...पहचान हो सत लक्ष्य की
आवर्त,पथ के
भास फिर शूल न हों
प्रिय लगे
खोखली जय-गूंज से परे
स्नेह भीगी नाद नीरव
My Photo
मैं,वन्दना तिवारी प्रेम और चिर सत्ता का मर्म जानने को प्रयत्नशील हूं।पुस्तकों के आश्रय से,प्रकृति के सानिध्य में और अब आपके सहयोग से शायद निर्दिष्ट लक्ष्य के कुछ समीप पहुंच सकूं।इसी आशा के साथ-''मैं नन्हा सा पथिक,विश्व के पथ पर चलना सीख रहा हूं'' अंग्रेजी साहित्य की छात्रा होने के नाते साहित्य मे विशेष रूचि है,पढ़ने की लालसा बढ़ती ही जा रही है।कभी कभी उद्गारों को शब्दों मे उतारने का प्रयास तो करती हूं पर अत्यन्त साधारण होने के कारण लोकप्रियता का शूल ज्यादा चुभता नहीं,बस आपके सम्पर्क को स्वागतोत्सुक हूं। -विन्दु
Wings of Fancy पर Vindu Babu 

आज, बीता हुआ कल और आने वाला कल, 
कितना कुछ बह जाता है 
समय के इस अंतराल में 
और कितना कुछ जुड़ जाता है 
मन के किसी एकाकी कोने में. 
उम्र कि पगडंडी पर 
कुछ लम्हे जुगनू से चमकते हैं ...
स्वप्न मेरे..पर Digamber Naswa

MyBigGuide पर 
Abhimanyu Bhardwaj

हिंदी कविता की दुनिया में *अरुण श्री *का अभी अभी पदार्पण हुआ है. और संतोष की बात यह कि वह भाषा और परम्परा दोनों की न्यूनतम आवश्यक तैयारी से लैस लगते हैं जिसका इन दिनों काफी अभाव दिखता है. उनकी कविताएँ निजी अनुभवों को सार्वजनिक विस्तार देती सी हैं....
असुविधा....पर Ashok Kumar Pandey

My Photo
अंतर्मंथन पर डॉ टी एस दराल 

दबे पाँव पीछे से आना 
आँखों पर हाथ रख चौंकाना 
सहज भाव से ता कहना 
लगते तुम मेरे कान्हां...
AkankshaपरAsha Saxena 
  
बेशक आधे अधूरे हैं पर ...कभी तो 
कैसे तो पहुंचे शब्द मेरे तुझ तक ...
शब्द अनवरत...!!!परआशा बिष्ट

सबकी क्षुधा मिटाने का दावा तो कर दिया 
चाँवल का घर में एक भी दाना तो है नहीं  
सत्ता की बागडोर भी तो उस्तरा ही है 
बन्दर के हाथ इसको थमाना तो है नहीं


Randhir Singh Suman   


ये कहाँ ले आये नरेंद्र मोदी

! कौशल !परShalini Kaushik 

आपका ब्लॉगपरVirendra Kumar Sharma

विपरीत प्रकृति के खाद्यों का एक साथ गलत अनुपात ,में सेवन करना न सिर्फ हमारे स्वास्थ्य को चौपट कर सकता है हमें एलर्जिक रिएक्शंस ,अपच ,आधा शीशी के पूरे दर्द की ओर भी धकेल सकता है खतरनाक किस्म के कैंसर समूह के रोगों की ओर भी ले जा सकता है...
Virendra Kumar Sharma 


गुमसुम ये हवा 

(स्त्री पर 7 हाइकु)

बहुत दूर
आसमान ख़्वाबों का
स्त्रियों का सच ...
लम्हों का सफ़रपरडॉ. जेन्नी शबनम

संस्कृति मनुष्य की स्वयंकी सृष्टि  है, 
इसका स्थायित्वव्यक्तियों द्वारा 
अतीत की विरासत के 
प्रतीकात्मक संचार पर निर्भर है। 
क्योंकि इसका आधार, जन्मदाता 
मनुष्य स्वयं परिवर्तनशील है
  

बढ़ते विकल्प....भ्रमित जीवन...!!! 


 Computer Tips & Tricks पर Faiyaz Ahmad

आओ करें हिसाब, क्या पाया क्या खोया हमने। 
कैसे-कैसे जुल्म सहे, किस-किस पर रोया हमने... 
कविता मंच पर Rajesh Tripathi

उत्तर सिक्किम में ला चुंग के रास्ते का वह सुन्दर झरना जैसे आमंत्रित कर रहा था. एक दिन की ट्रेन यात्रा और एक दिन गंगटोक में बिताने के पश्चात् हम सत्तर मील का रास्ता तय कर फूलों की घाटी के प्रवेश द्वार ला चुंग जा पहुंचे थे. गंगटोक से ला चुंग का रास्ता बहुत बीहड़ था. कई जगह तो बस कच्चा सा. उत्तर सिक्किम हाईवे कई जगह निर्माणाधीन अवस्था में था....
समालोचनपर arun dev



"मोटा-झोटा कात रहा हूँ"

रुई पुरानी मुझे मिली है, 
मोटा-झोटा कात रहा हूँ।
मेरी झोली में जो कुछ है, 
वही प्यार से बाँट रहा हूँ।।

खोटे सिक्के जमा किये थे, 
मीत अजनबी बना लिए थे,
सम्बन्धों की खाई को मैं
खुर्पी लेकर पाट रहा हूँ...

हार्ट अटैक आने से कुछ दिन पहले 

बॉडी देने लगती है संकेत 

हार्ट अटैक आने से कुछ दिन पहले बॉडी देने लगती है संकेत

उलूक टाइम्स
उलूक टाइम्सपरसुशील कुमार जोशी
  
vandana gupta

तेरी याद छुपाकर सीने में 
मजा आने लगा है जीने में 
मैकदे की तरफ भेजा जिसने 
बुराई दिखती उसे पीने में ...
दिलबाग विर्क

उसकी आखिरी रात में 

साँसों का चलना 
और 
साँसों का रुकना 
इसी के बीच 
रुक-रुक के चलती जिंदगी 
पर वो 
जिंदगी की आखिरी रात 
सो कर नहीं बिताना चाहती... 
Anju (Anu) Chaudhary 

कुल्लु नफ्सिन ज़ायक़तुल मौत -अल-क़ुर्'आन 
हर जान को मौत का ज़ायक़ा चखना है. 
हमारे वालिद जनाब मसूद अनवर ख़ान यूसुफ़ ज़ई साहब का इंतेक़ाल (देहावसान) हो गया है जुमा (26 अप्रैल 2014) और शनिवार (27 अप्रैल 2014)की दरमियानी रात मे 7:25 PM पर. उनकी उम्र तक़रीबन 69 साल थी...
Blog News पर DR. ANWER JAMAL 

Tuesday, April 29, 2014

"संघर्ष अब भी जारी" (चर्चा मंच-1597)

मित्रों।
मंगलवार के लिए मेरी पसंद के लिंक देखिए।
कृपया गुणीजन ध्यान दें ----
कवि का धर्म होता है अपने लेखन से समाज मे जागृति पैदा करना ये जानते हुए भी कुछ ऐसे भावों से रु-ब-रु हुयी हूँ कि खुद आश्चर्यचकित हूँ ……अब आप ही लोग मार्गदर्शन करें क्या सही और क्या गलत है या ऐसे भावों का जन्म भी होता है ........अब आपकी अदालत में 
हताशा पंख पसारे 
चुपके सा आ 
मुझे डराती है 
मेरे मन की खिड़कियों पर 
अनिश्चितता की थाप दे 
बंद कर जाती है...
vandana gupta 
--
--
वोट मांगते चलो , वोट मांगते चलो 
क्या तेरा क्या मेरा, 
सब है देश का रे वोट मांगते चलो, 
वोट मांगते चलो 
ए भैया जरा वोट देना...
aashaye पर garima
--

मन अकारण खुश हो तो 

व्यक्तित्व में निखार आता है.. 

 प्रसन्नता आत्मविश्वास दो गुना हो जाता है 
आज़ मेरे साथ ऐसा ही है.,,,.
--
--

भगजोगनी 

अमावस की रात
धुप्प अंधेरी
हाथ को हाथ नहीं दिखता
वैसे में
एक भगजोगनी
सूरज से कम नहीं लगती....
चौथाखंभा पर ARUN SATHI 
--

अंब लौट जाने की बारी हमारी है.... 

न बढ़ाउंगी अब कोई कदम 
न ही होंगी अब तुम्हारी यादें 
बस अब पीछे हटने की बारी हमारी है..
--

इतवार

छह व्यस्त दिन गुजारने के बाद 
आ ही गया इतवार 
सोचा, खूब आराम करूंगा, 
पूरे दिन सो जाऊंगा 
करूंगा, खुद को रेजुविनेट !! 
पर नींद या ख्वाब कभी आते हैं बुलाने पर? 
भटक रहा हूँ,,, 
Mukesh Kumar Sinha
--

वक्त देखो ये कैसा आया... 

तैयारी के साथ, घुमने चले, 
कुत्ते को भी गाड़ी में बिठाया। 
फिर कुत्ते को एक केला दिया, 
छिलका सड़क पर गिराया। 
केले का छिलका देखकर, 
भूखा बालक दौड़के आया, 
भूख मिटाई खाकर छिलका...
मन का मंथन। पर Kuldeep Thakur 
--

Rumors on the Specs 

and Release Date of iPad Pro 

Tech Prevue पर 
Vinay Prajapati (Nazar) -
--

किताबों की दुनिया 

सावन को जरा खुल के बरसने की दुआ दो 
हर फूल को गुलशन में महकने की दुआ दो 
मन मार के बैठे हैं जो सहमे हुए डर से 
उन सारे परिंदों को चहकने की दुआ दो...
नीरज पर नीरज गोस्वामी 
--

उड़ता रहेगा जीवन… 

मेरे घर के गलियारे में 
बिजली की डोर से लटकता 
प्यारा-सा घोंसला बनाया है 
सुन्दर-सी चिड़िया ने। 
मैं देखता हूँ उसे… 
जाने किस अचूक निशाने से 
वह उड़ती आती है तीव्र गति से 
और नीड़ के छोटे-से द्वार में 
जाकर दुबक जाती है… ! 
मैं निरंतर देखता हूँ 
उसका श्रम, उसकी स्फूर्ति और 
उसकी सम्मोहक उड़ान… 
आनन्द वर्धन ओझा
--

बदलते पैमाने 

द कर सब शब्द उससे गुजर गए, 
कुछ दिल को भेद कुछः ऊपर से निकल गए। 
अलग-अलग करना अब मुश्किल है, 
जिंदगी जहर बन गया...
--
--

"तख्ती और स्लेट"

patti1
सिसक-सिसक कर स्लेट जी रही,
तख्ती ने दम तोड़ दिया है।
सुन्दर लेख-सुलेख नहीं है,
कलम टाट का छोड़ दिया है।।
--

मुक्तक 

उनके ऐलान पे वो ईद मानाने निकले । 
सजा ए रेप को वो दिल से भुलाने निकले ।। 
वो दरिंदो के देवता का असर रखते हैं ।। 
हादसे होंगे नहीं !अब वो ज़माने निकले ....
Naveen Mani Tripathi
--

अनाडी बन के आता है 

अनाडी बन के आता है, 
खिलाड़ी बन के जाता है 
लगे जो दाग दामन में, 
उन्हें सब से छुपाता है...
धीरेन्द्र सिंह भदौरिया 
--

अबुल कलाम आजाद आज होते 

‘‘आज अगर एक फरिश्ता आसमान की बदलियों से उतर आए और कुतुब मीनार पर खड़े होकर यह ऐलान कर दे कि स्वराज 24 घण्टे के अन्दर मिल सकता है, बशर्ते यह कि हिन्दू मुसलमान इत्तेहाद से दस्तबरदार हो जाएँ तो मैं स्वराज से दस्तबरदार हो जाऊँगा मगर आपसी इत्तेहाद से दस्तबरदार न होऊँगा क्योंकि स्वराज मिलने में ताखीर (देर) हुई तो यह हिन्दोस्तान का नुकसान होगा लेकिन अगर हमारा इत्तेहाद जाता रहा तो यह आलमे इंसानियत का नुकसान होगा।’’...
लो क सं घ र्ष ! पर Randhir Singh Suman 
--
--

"राम तुम बन जाओगे" (चर्चा अंक-2821)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...