साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Thursday, March 06, 2014

चुनावी मौसम ( चर्चा - 1543 )

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
लोकसभा चुनाव की तिथियाँ घोषित हो गई हैं | जो लोग दल विशेष से जुड़े हुए हैं या दल विशेष के समर्थक हैं उनके लिए आत्म प्रशंसा और परनिंदा का मौसम है , लेकिन जो किसी दल से नहीं जुड़े उनके लिए आगे कुआं , पीछे खाई जैसी स्थिति है | वैसे अगर आरोप-प्रत्यारोपों को सुनकर मजा लेने की बात करें तो यह भारत-पाकिस्तान के क्रिकेट मैच जितना रोमांचक अनुभव है , तो मजे भी लीजिए और देश का भी सोचिए |
चलते हैं चर्चा की ओर 

महाकुंभ 

प्राञ्जल का जन्मदिन 
आभार 

12 comments:

  1. शुभ प्रभात
    उम्दा लिंक्स

    ReplyDelete
  2. अत्यन्त सुन्दर और पठनीय सूत्र, आभार।

    ReplyDelete
  3. रोचक चर्चा...आभार..

    ReplyDelete
  4. बहुत ही अच्छा लगा यहाँ आ कर ..

    ReplyDelete
  5. http://ramaajays.blogspot.jp/2014/03/blog-post_5.html.....यहाँ भी पधारे

    ReplyDelete
  6. शुक्रिया दिलबाग भाई ,पोस्ट को चर्चा में शामिल करते समय इन्फोर्म कर दीजिये।

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ....आभार!

    ReplyDelete
  8. क्‍या BccFalna.com आज तक चर्चामंच की नजर में नहीं आई।

    इसे भी किसी दिन जगह दीजिए अपने ब्‍लॉग पर क्‍योंकि बहुत कम लोग हिन्‍दी भाषा में तकनीकी ज्ञान दे रहे हैं और इस वेबसाईट की ज्‍यादा हिन्‍दी भाषी लोगों तक उपयुक्‍त पहुंच न हो पाने की वजह से मुश्किल में हैं और इस हिन्‍दी संस्‍करण को छोडकर अब अंग्रेजी संस्‍करण पर विस्‍थापित होने के लिए बाध्‍य हैं।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर चर्चा। होली की हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...