चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Sunday, September 15, 2013

मातृभाषा का करें सम्मान : चर्चामंच 1369

"जय माता दी" रु की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. चलते हैं आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स पर.

प्रस्तुतकर्ता : Anupama Tripathi


प्रस्तुतकर्ता : (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


प्रस्तुतकर्ता : सरिता भाटिया
प्रस्तुतकर्ता : Sunita Agarwal


प्रस्तुतकर्ता : पूरण खण्डेलवाल


प्रस्तुतकर्ता : Suman
प्रस्तुतकर्ता : शकुन्‍तला शर्मा
प्रस्तुतकर्ता : Darshan Jangra
प्रस्तुतकर्ता : Vandana
प्रस्तुतकर्ता : Shashi Purwar
प्रस्तुतकर्ता : राजेंद्र कुमार
प्रस्तुतकर्ता : रश्मि शर्मा
प्रस्तुतकर्ता : अरुणा


प्रस्तुतकर्ता : Alpana Verma


प्रस्तुतकर्ता : HARSHVARDHAN


प्रस्तुतकर्ता : नीलिमा शर्मा


प्रस्तुतकर्ता : Dr. Sandhya Tiwari


प्रस्तुतकर्ता : Anu


इसी के साथ आप सबको शुभविदा मिलते हैं रविवार को. आप सब चर्चामंच पर गुरुजनों एवं मित्रों के साथ बने रहें. आपका दिन मंगलमय हो
जारी है 'मयंक का कोना'
--
जानिए वकील का अपराध 
-दामिनी गैंगरेप केसकानूनी ज्ञान
--
मायने
कभी मै गम पीता हु कभी गम मुझे पीता है मरते है सब यहाँ , पर सभी क्या जीता है ? जीने के सबने मायने बनाये है उनके लिए क्या जो कफ़न से तन को ढकता है ?...
अंतर्नाद की थाप

--
मातृ भाषा प्रति सौतेला व्यवहार
विरिष्ठ लेखक सरदार खुशवंत सिंह के अनुसार ''हिन्दी एक गरीब भाषा है ''| सही ही तो कहा है उन्होंने,हिंदी सचमुच गरीबों की ही भाषा है,यह सोच कर सुधीर बहुत दुखी था ,सरकारी स्कूल और सरकारी कालेज से शिक्षा प्राप्त करने के बाद सुधीर ने कई कम्पनियों में इंटरव्यू दिए पर असफलता ही हाथ लगी ,ऐसा नही था की वह बुद्धिमान नही था ,याँ वह वह होनहार नही था ,वह बहुत प्रतिभाशाली था लेकिन अंग्रेज़ी भाषा को ले कर उसका आत्मविश्वास बुरी तरह से आहत हो चुका था ...
Ocean of Bliss पर Rekha Joshi 

--
"जेन स्टिलो का तीसरा जन्मदिन"

ब्लॉगमंच

--
अति सूधो स्नेह को मार्ग है हिंदी -
हिंदी प्रेम दिवस के उपलक्ष में 
घनानन्द पदावली का एक अंश सव्याख्या पढ़िएआपका ब्लॉग पर Virendra Kumar Sharma 
--
मुझे प्यार है तुमसे
न मौत की ख़बर देते हैं न ज़िन्दगी की फिर कहते हैं मुझे प्यार है तुमसे , अस्तित्वहीन कर चले जाते हैं ज़िन्दगी से एक दिन, सालों की दुरी के बाद नींद से जागते हैं और फिर कहते हैं मुझे प्यार है तुमसे...
Love पर Rewa tibrewal 

--
"साहित्य शारदा मंच खटीमा द्वारा हिन्दी दिवस पर कविगोष्ठी" 

उच्चारण

30 comments:

  1. सभी पाठको को हिन्दी पखवाड़े की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    --
    अरुण शर्मा अनन्त जी।
    आपने आज की चर्चा में अच्छे लिंकों का समावेश किया है।
    आभार।

    ReplyDelete



  2. आद्रणीय अरुण शर्मा अनन्त जी। आप की चर्चा पढ़कर मन आनंदित हुआ...
    सादर।

    उजाले उनकी यादों के पर आना... इस ब्लौग पर आप हर रोज 2 रचनाएं पढेंगे... आप भी इस ब्लौग का अनुसरण करना।

    आप सब की कविताएं कविता मंच पर आमंत्रित है।
    हम आज भूल रहे हैं अपनी संस्कृति सभ्यता व अपना गौरवमयी इतिहास आप ही लिखिये हमारा अतीत के माध्यम से। ध्यान रहे रचना में किसी धर्म पर कटाक्ष नही होना चाहिये।
    इस के लिये आप को मात्रkuldeepsingpinku@gmail.com पर मिल भेजकर निमंत्रण लिंक प्राप्त करना है।



    मन का मंथन [मेरे विचारों का दर्पण]


    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर सूत्र..

    ReplyDelete
  4. हिंदी दिवस के शुभ मौके पर हिंदी को एक ओर उपहार ---हिंदी तकनीकी दुनिया का शुभारंभ... कृपया आप भी पधारें, आपके विचारों का स्वागत किया जायेगा |

    ReplyDelete
  5. हिंदी दिवस के शुभ मौके पर.....सुन्दर सूत्र.....

    ReplyDelete
  6. भावों का सार लिए ,अर्थ का संसार लिए-

    लो फिर आया हिंदी प्रेम दिवस ,

    कर लो हिंदी से प्यार।

    मत बनो मनुज लाचार।

    बहुत सुन्दर रचना है आपकी रचना का भाव संसार भी प्रेम संसिक्त है।

    मातृभाषा का करें सम्मान
    प्रस्तुतकर्ता : Anupama Tripathi

    ReplyDelete
    Replies
    1. prashansa evam protsahan ke liye hriday se abhar .

      Delete
  7. हिंदी प्रेम दिवस कहो इसे -

    देखो विडंबना देखो गौर से भाई -

    पड़े मनाना दिवस भी हिंदी -

    चलो आज कुल्ला दिवस भी मनाएं ,

    आज सभी भारत भारती कुल्ला करें ,

    हाथ धोएं ,स्नान करें ,

    खाना खाएं ,

    मौज मनाएं


    करें प्यार अंग्रेजी को पर दिल से

    हिंदी भी अपनाएँ ,

    बाल गोपालन को सिखलाएँ ,

    चलो हिंदी प्रेम दिवस मनाएं

    ReplyDelete
  8. गुरु जी प्रणाम
    शुक्रिया अरुण खुबसूरत चर्चा मंच पर मुझे स्थान देने के लिए

    ReplyDelete
  9. सूरज जब खाने लगे, खुद ही अपनी धूप।
    अँधियारे को चीर कर, कैसे निखरे रूप।४।

    स्वर-व्यंजन में रमा है, रूप और विज्ञान।
    अपनी भाषा का करें, आओ हम गुणगान।५।

    अपने प्यारे देश में, समझो तभी सुराज।
    अपनी भाषा में करे, जब हम अपने काज।१४।

    शाष्त्री जी के दोहे हैं ,

    मन को खूब भिगोये हैं।

    इसीलिए भारतेंदु हरिश्चन्द्र ने कहा -


    निज भाषा उन्नति अहै सब उन्नति को मूल ,

    बिन निज भाषा ज्ञान के मिटे न हिय को शूल।

    ॐ शान्ति

    इतने शहरी हो गए लोगों के ज़ज्बात ,

    हिंदी भी करने लगी अंग्रेजी में बात।

    एक गजल कुछ ऐसी हो बिलकुल तेरे (हिंदी )जैसी हो ,

    मेरा चाहे कुछ भी हो तेरी कभी न हेटी हो।

    हिंदी की न हेटी हो।

    तेरी ,मेरी कभी न हो हिंदी तेरिमेरी हो।

    ReplyDelete
  10. पहर वसन अंगरेजिया ,हिंदी करे विलाप ,

    अब अंग्रेजी सिमरनी जपिए प्रभुजी आप।

    पहर वसन अंगरेजिया उछले हिंदी गात ,

    नांच बलिए नांच ,देदे सबकू मात।

    अब अंग्रेजी हो गया हिंदी का सब गात ,

    अपनी हद कू भूलता देखो मानुस जात।

    बढ़िया दोहावली हिंदी के प्रति पूर्ण समर्पण अर्पण लिए।

    हिंदी दिवस [दोहावली]
    प्रस्तुतकर्ता : सरिता भाटिया

    ReplyDelete
  11. महानगर ने फैंक दी मौसम की संदूक ,

    पेड़ परिंदों से हुआ कितना बुरा सुलूक।

    बहुत सुन्दर दोहावली पढवाई आपने सार्थक हमारे वक्त से संवाद करती पर्यावरण के प्रति खबरदार करती।

    दोहे
    प्रस्तुतकर्ता : Vandana

    ReplyDelete
  12. भारत की पहचान है हिंदी
    भारत की पहचान है हिंदी
    हर दिल का सम्मान है हिंदी

    जन जन की है मोहिनी भाषा
    समरसता की खान है हिंदी

    छन्दों के रस में भीगी ,ये
    गीत गजल की शान है हिंदी

    ढल जाती भावो में ऐसे
    कविता का सोपान है हिंदी

    शब्दों का अनमोल है सागर


    सब कवियों की जान है हिंदी

    सात सुरों का है ये संगम
    मीठा सा मधुपान है हिंदी

    क्षुधा ह्रदय की मिट जाती है
    देवों का वरदान है हिंदी

    वेदों की गाथा है समाहित
    संस्कृति की धनवान है हिंदी

    गौरवशाली भाषा है यह
    भाषाओं का ज्ञान है हिंदी

    भारत के जो रहने वाले
    उन सबका अभिमान है हिंदी।
    --- शशि पुरवार


    सूर और तुलसी का मानस '

    मीरा की खड़ - ताल है हिंदी ,

    बेहतरीन दोहे हिंदी प्रेम दिवस पर।

    ReplyDelete
  13. sunder sarhak links .....meri rachna ko sthan mila ,abhar Arun .

    ReplyDelete
  14. हिंदी पखवाड़े को प्रदर्शित करती सुन्दर चर्चा !!
    आभार !!

    ReplyDelete
  15. हिन्दी-दिवस विशेषांक के लिये बधाइयाँ..........

    ReplyDelete
  16. है जिसने हमको जन्म दिया,हम आज उसे क्या कहते है ,
    क्या यही हमारा राष्र्ट वाद ,जिसका पथ दर्शन करते है
    हे राष्ट्र स्वामिनी निराश्रिता,परिभाषा इसकी मत बदलो
    हिन्दी है भारत माँ की भाषा ,हिंदी को हिंदी रहने दो .....

    हिंदी दिवस पर सुंदर सूत्रों का संकलन !!

    RECENT POST : बिखरे स्वर.

    ReplyDelete
  17. सुन्दर चर्चा बढ़िया लिंक्स मुझे स्थान देने के लिए
    आभार अरुन जी,

    ReplyDelete
  18. sunder sarhak links .....meri rachna ko sthan mila ,abhar

    ReplyDelete
  19. सुन्दर लिंक .. मस्त चर्चा ...

    ReplyDelete
  20. सुन्दर चर्चा ,बढ़िया लिंक्स,मेरी रचना को शामिल करने पर आपका हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर लिनक्स का संयोजन .मेरी रचना को स्थान देने के लिय आपका हार्दिक आभार @ अरुण जी

    ReplyDelete
  22. लघुत्तम बहर सुन्दर भाव और अर्थ।

    अपनी भाषा ही अपना गौराव गान ,संस्कृति और इतिहास संजोये रहती है। अपना एक मुहावरा एक उपालम्भ लिए रहती है। जो बात तुझमे माँ सरस्वती निज भाषा में वह किसी और में नहीं भले सीखो मनोयोग से अंग्रेजी भी पर सर्च इंजिन अपनी भाषा हो। बहुत सही लेख।

    बिंदी तू तो मेरे भाल की ,

    घनानंद की हुई सुजान।

    बेहतरीन हिंदी स्तुति
    हिंदी दिवस पर विशेष
    प्रस्तुतकर्ता : अरुणा

    ReplyDelete
  23. लघुत्तम बहर सुन्दर भाव और अर्थ।

    अपनी भाषा ही अपना गौराव गान ,संस्कृति और इतिहास संजोये रहती है। अपना एक मुहावरा एक उपालम्भ लिए रहती है। जो बात तुझमे माँ सरस्वती निज भाषा में वह किसी और में नहीं भले सीखो मनोयोग से अंग्रेजी भी पर सर्च इंजिन अपनी भाषा हो। बहुत सही लेख।

    बिंदी तू तो मेरे भाल की ,

    घनानंद की हुई सुजान।

    बेहतरीन हिंदी स्तुति
    हिंदी दिवस पर विशेष
    प्रस्तुतकर्ता : अरुणा

    ReplyDelete
  24. सुन्दर लिंक ...............मेरी रचना को स्थान देने के लिए........... हार्दिक आभार ...........

    ReplyDelete
  25. Arun ji sarvpratham to der se hajiri lagane ki maafi chahungi kuchh kaam me uljhi thi to mene apka sandesh aj dekha or aa gayi hajiri lagane .. bahut badhiya links lagaya apne ek se badh kar ek rachna or vicharo se awgat karaya .. in sabke bich meri rachna ko bhi sathan dene ke liye tahedil se aabhari hu apki sabhi rachnakaro ko haardik badhayi evem shubhkamnaye :)

    ReplyDelete
  26. सुन्दर चर्चा !
    हार्दिक आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin