Followers

Saturday, December 31, 2011

नदिया की बूंदे ... (चर्चा मंच - 744)


साल का आखिरी दिन और साल की आखिरी चर्चा....... हर ओर खुमारी है........ पूरे साल घरों में दीवार पर टंगा कैलेंडर अब पुराना हो जाएगा और उसकी जगह ले लेगा नया कैलेंडर। 2011 का यह आखिरी दिन और फिर सुबह होगी 2012 की। अपने अपने तरीके हैं सबके पुराने साल की विदाई और नया साल का स्‍वागत करने का। वर्ष 2011 की विदाई के तौर-तरीकों पर बात कर रही हैं अजित गुप्‍ता जी
इसी विषय पर और ही विस्‍तार से बात कर रही हैं पल्‍लवी जी  
 नया साल सबके लिए मंगलमय हो..... सबके लिए शुभ हो.... सब नए साल में फले फूलें.... सबका कल्‍याण हो....... सबके घर खुशियां आयें, सबके लिए दुआएं मांग रही हैं शशि पुरवार जी
देशभक्ति के जज्‍बे के साथ नए साल की खुशियां मनाने की बात कह रहे हैं धीरेन्‍द्र सिंह जी  

चहुंओर खुशहाली हो.... चहुंओर समृध्दि हो.... आने को है नया साल 


समय किसी के लिए नहीं रूकता.... वह निरंतर चलता रहता है.... जिंदगी में हमें समय की कद्र करनी चाहिए और साथ ही उनकी जो हमारी फिक्र करते हैं, इस कडी में सबसे पहला नाम आता है 'मां' । कहते हैं भगवान ने दुनिया बनाई और इसके बाद उसने 'मां' को बनाया, क्‍योंकि वो खुद हर जगह, हर वक्‍त, हर इंसान के साथ नहीं रह सकता था इसलिए उसने 'मां' बनाया। 'मां' को लेकर एक मर्मस्‍पर्शी कहानी काणी मां
वर्ष 2012 के आने से पहले 2011 पर बात की जाए और इस वर्ष में अपने अपने क्षेत्र में छाप छोडने वालों पर बात की जाए तो वर्ष की सबसे सशक्‍त महिला हैं बंगाल शेरनी
और इसी बंगाल शेरनी पर बात हो रही है ममता, माओवाद और आतंक
अब कुछ लिंक सीधे सीधे आप तक ............. 
कहां कहां जाती हैं नदिया की बूंदे
बिलावजह कुछ नहीं होता कोई बात यूं बाहर नहीं जाती
सच कहा है सिर्फ कोहीनूर ही मुकुट में जडे जाते हैं
समझ में नहीं आता कैसी ये जुदाई है 
सात दिनों में सबसे प्‍यारा टूटी चूडी में फंसा हुआ इतवार 
 अरे आप तो चुप रहिए वो कुछ बोलने जा रहे हैं.....
हकीकत कुछ भी हो इन्‍हें चाहिए सबूत  
लोकपाल आंदोलन को करीब से जानिए अन्‍ना की आग में मीडिया का घी 

अखबारों में प्रचार प्रसार का काम देखते पूरी उम्र गुजार चुके एक बुजुर्ग का दर्द है पत्रकारिता का रंग पीला क्‍यों......? 

नए साल की बधाईयों के बीच बधाई दीजिए इनको भी। इनके स्‍मृति रथ के लिए 
नए साल की खुमारी में ही न डूबे रहें सचेत भी रहें क्‍योंकि आ गया है इंसानी दिमाग को हैक करने वाला कम्प्यूटर वायरस  
नए साल पर म्‍यूजिकल ग्रीटिंग भेजना सीखिए यहां

आखिर में आज का सदविचार



Thursday, December 29, 2011

आईए स्वागत करें 2012 का (चर्चा मंच - 743)

       आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
                 HAPPY NEW YEAR   
                      आज की चर्चा 

गद्य रचनाएं 
पद्य रचनाएं
           अंत में देखिए कार्टून धमाका 
  आज की चर्चा में बस इतना ही, मिलते हैं नए वर्ष में 
                                     धन्यवाद 
                                 दिलबाग विर्क 
                      * * * * *
   

Wednesday, December 28, 2011

नन्हीं सी आशा (चर्चामंच-742)

आदरणीय शास्त्री जी की अतिव्यस्तता
और
हम लोगों पर आई अतिरिक्त जिम्मेदारी का
प्रतिफलन,
मुझ ‘ग़ाफ़िल’ द्वारा
प्रस्तुत की जा रही आज की चर्चा
का
लिंक नम्बर वन-
_______________
2-
मेरा फोटो
_______________
3-
_______________
4-
My Photo
_______________
5-
_______________
6-
_______________
7-
My Photo
_______________
8-
_______________
9-
मेरा फोटो
_______________
10-
मेरा फोटो
_______________
11-
_______________
12-
मेरा फोटो
_______________
13-
_______________
21-
मेरा परिचय यहाँ भी है!
_______________

अब कुछ पुरानी रचनाओं की याद ताज़ा कर ली जाय-

नं. 22-
_______________
23-
_______________
24-
_______________
25-
_______________
26-
_______________
27-
_______________
28-
_______________
30-
________________
31-
________________
और अन्त में
32-
________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

Tuesday, December 27, 2011

संक्षिप्त चर्चा (चर्चा मंच - 741)

आज की चर्चा में आप सबका स्वागत है 
देर से सूचना मिली कि शास्त्री जी कुछ दिनों के लिए नेट से दूर हैं , उनकी अनुपस्थिति में उनका दायित्व निभाने के लिए आज मैं आपके सामने थोड़े से लिंक्स के साथ उपस्थित हूँ 
आज की चर्चा-
   
__________

 
__________

 
__________

 
__________

 
__________

__________

 
__________

__________

 
__________

 
__________

__________

  
__________

 
__________

__________

 
__________

__________

__________

__________

My Photo
__________
आज की चर्चा में बस इतना ही
धन्यवाद 
* * * * *

"राम तुम बन जाओगे" (चर्चा अंक-2821)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...